इंसान किसे कहते हैं? इंसान को किसने बनाया हैं?

दोस्तों, कई बार लोगों को अलग अलग इंसानों के बारे में अधिक जानकारी नहीं होती है। इसलिए काफी लोग गूगल या दुसरे Sarching ब्राउज़र पर सर्च करते हैं कि इंसान क्या है? यदि आपको भी नहीं पता कि insan kise kahate hain तो अब बिल्कुल सही जगह पर आए हैं, क्योंकि यहां पर मैंने आपको इंसान से सम्बंधित सारी जानकारी दे रखी है।

आज के इस आर्टिकल में हम बात करेंगे कि insan kise kahate hain या insan kya hai। क्योकि इसको पढ़ने के बाद आपको इंसान के बारे में अच्छी तरह से पता चल जाएगा की इंसान क्या है? तो चलिए शुरू करते है:-

इंसान किसे कहते हैं? | Insan kise kahate hain?

जो दूसरों के दुःख को अपना दुःख समझकर उसे कम करने की  कोशिश करे, जिसका दिल अपने से पहले दूसरों के लिए धडके, उसे इंसान कहते है।

कहा जाता है कि इंसान एक हाड-मांस का पुतला है। कुछ लोग ऐसा भी कहते है कि इंसान भावनाओं का जखीरा है। कुरान कहता है कि इंसान अल्लाह की धरती को नयमत है।

इंसानों के  बनने के बाद फरिश्तों ने इंसानों को सजदा किया था। हमें “इंसान क्या है” इस सवाल के जवाब के रूप में हमेशा सकारात्मक बातें ही जानने को मिलती है।

लेकिन आज के समय इंसान पूरी धरती के लिए श्राप साबित हो रहे है, लेकिन ऐसा भी नहीं है। इस दुनिया में बहुत सारे अच्छे लोग भी रहते हैं और जहां अच्छाई होती है वहां बुराई भी आवश्यक होती है। इसलिए इस संसार में हर तरह के लोग रहते हैं।

आज इंसानों ने ऐसे-ऐसे खतरनाक परमाणु बम जैसे हथियार बना लिये है कि पूरी दुनिया को तहस-नहस कर सकते है। आज का  इंसान बहुत ज्यादा ताकतवर बन चुका है, और इसी के चलते इंसान अपने भगवान को भूल रहा है, जिस मकसद से इंसान को इस दुनिया में भेजा गया हैं इंसान उस मकसद से परे होकर के अपने स्वार्थ को पूरा करने में लगा हुआ है।

इंसान को किसने बनाया? | Insan ko kisne banaya?

Insan kise kahate hain?

इंसान इस संसार में पांच तत्वों से मिलकर बना होता है। धरती, आकाश, वायु, अग्नि, और जल। इस दुनिया में पक्षी और जानवर  के मुकाबले इंसान सबसे ज्यादा बुद्धिमान प्राणी माना जाता है। ऐसा मानना है कि इस दुनिया में इंसान से अधिक कोई और बुद्धिमान नहीं है।

इंसानो ने आज बहुत ज्यादा तरक्की कर लिया है। इंसानों ने एक से बढ़कर कई  बड़े से बड़े आविष्कार भी किया है, और इंसान नई-नई आधुनिक मशीनों को बनाकर अपने जीवन को बहुत आसान बनाते जा रहे हैं।

ऐसा माना जाता है कि जानवर और पक्षियों को भगवान ने बनाया है। ठीक उसी प्रकार से इंसानों को भी भगवान ने बनाया है। जहां तक कि हमें पता है  इंसान अपनी मां के पेट से बनकर पैदा होते हैं,

लोगों का यह भी मानना है कि इंसानों को दुनिया में एक इम्तिहान देने के लिए भेजा गया है.

ये दुनिया एक इम्तेहान है यहां पर  इंसान जो भी अच्छे और बुरे कर्म करेगा उसका परिणाम भी उसे ऊपर दिया जाएगा. जैसे हमारे स्कूलों में 1 साल बाद परीक्षाएं होती है और फिर उसके बाद हमारा आखिरी परिणाम आता है. उसमें हम पास या फेल होते हैं ठीक उसी तरह से जब इंसान मर जाता है. तो उसके सारे कर्मों का हिसाब-किताब ऊपर किया जाता है.

उसी हिसाब के आधार पर उसे पास और फेल किया जाता है।  जो इंसान पास हो जाता है उसे जन्नत में डाल दिया जाता है और जो इंसान फेल हो जाता है उसे जहन्नुम में डाल दिया जाता है।

उनको सजा भी जैसा कर्म किया, वैसा ही मिलेगा। इंसान को बहुत कठिन रास्तो से गुजरना पड़ता है।

इंसान कौन है? | इंसान की पहचान

इंसान की पहचान क्या होती है इंसानों के पास दो आंखे, दो हाथ, दो पैर, एक नाक और एक मुँह होता है। इंसानों भी दो प्रकार पुल्लिंग और स्त्रीलिंग होते हैं। पुल्लिंग मतलब  कि लड़का और स्त्रीलिंग लड़की।

तो जब लड़का और लड़की दोनों बड़े हो जाते हैं तो उनके घर वाले उनकी शादी की तैयारियां करने लगते हैं, फिर लड़के के लिए लड़की ढूंढनी पड़ती  है और उससे शादी करा दी जाती है। लड़की के लिए लड़का ढूंढना पड़ता है फिर उससे शादी करा दी जाती है। इसी तरह से मनुष्य का जीवन चक्र आगे बढ़ता रहता है।

अच्छा इंसान कैसा होता है?

अच्छा इंसान हमेशा बहुत दयालु ओर शिष्टचारी होता है, और दूसरों के दुःख दर्द में हमेशा सहायता करता है। कभी भी किसी की मजबूरी का गलत फायदा नहीं उठाता है। अच्छा इंसान हमेशा दूसरों की मुसीबत में मदद करता है।

कभी किसी की कानाफुसी नहीं करता है और लड़ाई झगड़े से हमेशा दूर रहता है। साथ ही अच्छा इंसान अपने रब को भी राजी उनको याद रखता है।  अपने मां-बाप का पूरा ख्याल रखता है और अपने से बड़ों का पूरा मान सम्मान करता है।

बुरा इंसान कैसा होता है? | What is the mark of a bad person?

बुरा इंसान अच्छे इंसान से  बिल्कुल अलग होता है। बुरा इंसान दूसरों की मजबूरियों में उनका पूरा फायदा उठाता है, और दूसरों के बारे में  हमेशा बुरा चाहता है। बुरा इंसान कभी भी अपने भगवान को याद नहीं करता है। बुरा इंसान हमेशा दूसरे से घृणा करता है, और दूसरों की खुशियां तो उससे कभी देखी ही नहीं जाती है।

बुरा इंसान हमेशा दूसरों की कामयाबी और तरक्की देखकर जलता है। बुरा इंसान अपने मां-बाप का भी कभी ख्याल नहीं रखता है यह हर बात-बात में झगड़ा करते रहता है और अपने से बड़ों को कभी भी सम्मान नहीं देता है। दूसरों को तकलीफ में देखकर उन्हें खुशी होती है।

इंसान क्या खाते हैं? | What do humans eat?

इस दुनिया में दो तरह के इंसान होते हैं एक वेजीटेरियन और दूसरे जो नॉन वेजिटेरियन होते हैं। वेजिटेरियन मतलब शाकाहारी जो सिर्फ साग और सब्जी खाते हैं। नॉनवेजिटेरियन मतलब मांसाहारी जो मांस खाते हैं। बहुत सारे इंसान वेजिटेरियन भी होते हैं साथ ही नॉन वेजिटेरियन भी खाते हैं। कहने का मतलब ये है कि उन लोगो को साग सब्जी खाना पसंद होता है और मांस पदार्थ खाना भी पसंद होता है।

निष्कर्ष

आज के इस आर्टिकल में हमने आपको बताया है कि insan kya hai या insan kise kahate hain. उम्मीद करता हूं कि अब आप लोगों को अच्छी तरह से पता चल गया होगा कि इंसान क्या है, और क्यों हैं और साथ ही ये भी बताया है कि इंसान क्या खाते हैं. अगर अभी भी आपके मन में इस से संबधित कोई सवाल हो तो नीचे कॉमेंट बॉक्स में पूछ सकते हैं। यदि जानकारी पसंद आई हो तक कृपया इस लेख को ज्यादा से ज्यादा शेयर करें।

FAQ

यह इंसान क्यों है?

एक और सामान्य लेकिन अनावश्यक रूप से जटिल उत्तर है “जब 14 वीं शताब्दी के दौरान “होने” शब्द का इस्तेमाल किया गया था, तो चर्च ने फैसला किया कि भगवान और स्वर्गदूत उच्चतम क्रम के आत्म-जागरूक “जीव” थे। उत्पत्ति ने कहा कि मनुष्य की छवि में बनाया गया था भगवान, इसलिए उन्हें “होने” की उपाधि भी दी गई।

इंसान होने से क्या बनता है?

मानव, जीनस होमो में वर्गीकृत एक संस्कृति-असर वाला प्राइमेट, विशेष रूप से प्रजाति एच। सेपियन्स। मनुष्य शारीरिक रूप से समान हैं और महान वानरों से संबंधित हैं, लेकिन एक अधिक विकसित मस्तिष्क और स्पष्ट भाषण और अमूर्त तर्क के लिए परिणामी क्षमता द्वारा प्रतिष्ठित हैं।

अच्छे इंसान कैसे बने?

आप जो हैं वो रहें: हमेशा याद रखें कि आप कौन हैं और आप जो हैं वो कभी न बनें। किसी और की तरह बनने की कोशिश मत करो; बस आप जैसे हैं वैसे ही रहें और अच्छे कामों को उतना ही सरल तरीके से करें जितना आप कर सकते हैं। आप जो हैं वही होने से आपको एक ऐसा सच्चा इंसान बनने में मदद मिलती है जो दुनिया में सकारात्मकता फैलाता है।

Leave a Comment