भगवान शिव की मृत्यु कैसे हुई? | bhagwan shiv ki mrityu kaise hui

नमस्कार दोस्तो, जो भी व्यक्ति हिंदू धर्म के अंतर्गत विश्वास रखता है, तथा हिंदू धर्म के अंतर्गत मान्यता रखता है, उसका भगवान शिव के साथ एक विशेष नाता होता है। दोस्तों क्या आप जानते है, कि भगवान शिव की मृत्यु कैसे हुई, यदि आपको इसके बारे में कोई जानकारी नहीं है, तथा आप इसके बारे में जानकारी प्राप्त करना चाहते हैं, तो आज की इस पोस्ट के माध्यम से हम आपको इस विषय के बारे में संपूर्ण जानकारी देने वाले हैं।

इस पोस्ट के माध्यम से हम आपको बताने वाले हैं कि भगवान शिव की मृत्यु कैसे हुई, हम आपको इस विषय से जुड़ी लगभग हर एक जानकारी इस पोस्ट के अंतर्गत शेयर करने वाले हैं। तो ऐसे में आज का की यह पोस्ट आपके लिए काफी महत्वपूर्ण होने वाली है, तो इसको अंत जरूर पढ़िए।

भगवान शिव की मृत्यु कैसे हुई? | bhagwan shiv ki mrityu kaise hui

bhagwan shiv ki mrityu kaise hui

दोस्तों बहुत से लोगों के मन में यह सवाल होता है, कि भगवान शिव की मृत्यु कैसे हुई थी या फिर क्या भगवान शिव की मृत्यु हुई थी या फिर नहीं हुई थी, यदि आपके मन में भी यह सभी सवाल है, तो आपकी जानकारी के लिए में बता दो कि अगर वेदों के बारे में बात की जाए, तो वेदों के अनुसार इस दुनिया का निर्माण भगवान शिव के द्वारा किया गया था। यानी कि भगवान शिव इस दुनिया से पहले आए थे, दुनिया बाद में आई थी तथा भगवान शिव दुनिया से पहले ही आए थे, तो ऐसे में भगवान शिव का जन्म ही नहीं हुआ था।

इसके अलावा इस सृष्टि को जन्म देने वाले का नाम ही भगवान शिव है, और इसके इस सृष्टि के अंतर्गत जो भी घटना घटित होती है वह सब कराने वाले भगवान शिव ही है, तो ऐसे में भगवान शिव की मृत्यु कभी हुई ही नहीं है, और ना कभी हो सकती है।

दोस्तों मृत्यु उसकी होती है जिसने किसी भी स्त्री के गर्भ से जन्म लिया हुआ होता है, लेकिन भगवान शिव ने तो किसी भी स्त्री के गर्भ से जन्म नहीं लिया था, तो ऐसे में इनकी मृत्यु कभी भी नहीं हो सकती है।

मृत्युंजय क्या होता है? | mritunjay kya hota hai

दोस्तों अनेक जगहों पर भगवान शिव का नाम मृत्युंजय के साथ जोड़ा जाता है। तो ऐसे में बहुत से लोगों के मन में यह सवाल होता है, कि मृत्युंजय का अर्थ क्या होता है या फिर मृत्युंजय क्या होता है, तो आपकी जानकारी के लिए मैं बता दूं कि इसका अर्थ होता है, जिस व्यक्ति ने मृत्यु पर विजय हासिल कर ली होती है, या फिर जिसकी कभी भी मृत्यु ना हो सके। तो हमने आपको बताया है, कि भगवान शिव की कभी भी मृत्यु नहीं हो सकती है, तो ऐसे में भगवान शिव का नाम मृत्युंजय के साथ जोड़ा जाता है।

भगवान शिव अभी कहां मौजूद है? | bhagwan shiv anhi kya maujood hai

जैसा कि दोस्तों आप सभी लोगों को इसके बारे में तो पता चल गया होगा, कि भगवान शिव कभी भी इस दुनिया से नहीं जा सकते और कभी भी उनकी मृत्यु नहीं हो सकती, तो ऐसे में बहुत से लोगों के मन में यह भी सवाल है, कि भगवान शिव अभी कहां पर है, तो आपकी जानकारी के लिए मैं बता दूं कि भगवान शिव आज के समय कैलाश पर्वत की सबसे ऊंची चोटी पर मौजूद है, और यही उनका निवास स्थल माना जाता है।

हालांकि आज तक कोई भी व्यक्ति इस कैलाश पर्वत की सबसे ऊंची चोटी तक नहीं पहुंच पाया है, वह जिस भी व्यक्ति ने इस चोटी पर जाने का प्रयास किया है, वह अभी तक वापस नहीं आया है।

लेकिन अनेक पुराणों के अंतर्गत यह लिखा गया है, और हिंदू धर्म के अंतर्गत भी यह मान्यता है, कि कैलाश पर्वत की सबसे ऊंची चोटी भगवान शिव का निवास स्थल है, तथा वहीं पर भगवान शिव रहते हैं। इसी कारण से इस जगह को हिंदू धर्म के अंतर्गत काफी पवित्र माना जाता है।

आज आपने क्या सीखा

तो आज की इस पोस्ट के माध्यम से हमने आपको बताया कि भगवान शिव की मृत्यु कैसे हुई, हमने आपको इस पोस्ट के अंतर्गत के विषय से जुड़ी लगभग हर एक जानकारी को देने का प्रयास किया है। इसके अलावा हमने आपके साथ इस पोस्ट के अंतर्गत भगवान शिव की मृत्यु से जुड़ी अन्य महत्वपूर्ण जानकारियां भी शेयर की है, जैसे कि भगवान शिव की मृत्यु कैसे हुई थी क्या सच में भगवान शिव की मृत्यु हुई थी, या फिर भगवान शिव अभी भी इस पृथ्वी पर मौजूद है, इसके अलावा यह भी आज भी भगवान शिव मौजूद हैजेड तो वह कहां पर रहते हैं, या फिर उनका निवास स्थान कहां है।

आज की इस पोस्ट के माध्यम से हमने आपको इस विषय से जुड़ी लगभग हर एक जानकारी को देने का प्रयास किया है। हमें उम्मीद है कि आपको हमारे द्वारा दी गई यह इंफॉर्मेशन पसंद आई है, तथा आपको इस पोस्ट के माध्यम से कुछ नया जानने को मिला है। इस पोस्ट को सोशल मीडिया के माध्यम से आगे शेयर जरूर करें, तथा इस विषय के बारे में अपनी राय हमें नीचे कमेंट में जरूर बताएं

FAQ

भगवान शिव अभी कहां है?

सद्गुरु बताते हैं कि कैलाश को शिव के निवास स्थान के रूप में क्यों रखा गया है, इसलिए नहीं कि वह कैलाश की चोटी पर बैठा है, बल्कि वह सब कुछ जो वह जानता था कि उसने इस पर्वत में संग्रहीत किया था।

क्या भगवान शिव जिंदा है?

भगवान शिव ब्रह्मांड के निर्माता हैं। वे हर कण में हैं लेकिन बहुत कम लोग जानते हैं कि उनके 2 अवतार अभी भी इस धरती पर जीवित हैं।

शिव विनाशक कौन है?

शिव को त्रिमूर्ति के भीतर “विनाशक” के रूप में जाना जाता है, हिंदू त्रिमूर्ति जिसमें ब्रह्मा और विष्णु भी शामिल हैं। शैव परंपरा में, शिव सर्वोच्च भगवान हैं जो ब्रह्मांड की रचना, रक्षा और परिवर्तन करते हैं।

Leave a Comment